UPA Dharna

यूपीए ने ईडी और भाजपा के खिलाफ राजभवन के समक्ष दिया धरना

राँची

रांची : अवैध खनन मामले में मुख्यमंत्री को ईडी (ED) के समन और कांग्रेस के दो विधायकों के ठिकानों पर आयकर विभाग की छापेमारी के खिलाफ यूपीए महागठबंधन का गुस्सा फूट पड़ा. भाजपा के खिलाफ यूपीए के महागठबंधन के दलों ने शनिवार को शहर में शक्ति प्रदर्शन किया. साथ ही झामुमो ने प्रदेशभर में धरना दिया.

भाजपा और ईडी (ED) के खिलाफ नारेबाजी

ईडी (ED) के समन सहित इस पूरे प्रकरण में जेएमएम कार्यकर्ता भाजपा को दोषी ठहरा रहे हैं. सैकड़ों कार्यकर्ताओं ने राजभवन पहुंचकर भाजपा और ईडी के खिलाफ नारेबाजी की. जेएमएम कार्यकर्ताओं का कहना है कि भाजपा मौजूदा सरकार को अस्थिर करने का प्रयास कर रही है और जनादेश का उल्लंघन कर रही है. धरना में झामुमो के अलावा कांग्रेस और राजद के भी कार्यकर्ता शामिल हुए.

सरकार को अस्थिर करने की कोशिश : महुआ माजी

राज्यसभा सांसद महुआ माजी ने कहा कि भाजपा झारखंड की लोकतांत्रिक सरकार को अस्थिर करने की कोशिश कर रही है. ईडी (ED) जिन घोटालों की जांच कर रही है उसमें पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास का भी नाम है लेकिन ईडी उनसे पूछताछ क्यों नहीं कर रही. भाजपा के और भी कई लोग हैं घोटालों में शामिल हैं. कईयों के खिलाफ मामले भी दर्ज हैं. आखिरी ईडी वहां क्यों नहीं जा रही है.

ईडी को भाजपा ने बनाया मोहरा : बंधु तिर्की

कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष बंधु तिर्की ने कहा कि भाजपा राजनीतिक प्रतिशोध की भावना से संवैधानिक संस्थाओं से अपने इशारे पर काम करवा रही है. रघुवर सरकार में कितने घोटाले हुए. आखिर क्यों उन घोटालों के आरोपियों पर कार्रवाई नहीं होती. भाजपा लोकतांत्रिक तरीके से चुनी हुई सरकार को अस्थिर करने की कोशिश कर रही है. इस मौके पर झामुमो के महासचिव सुप्रियो भट्टाचार्य सहित अन्य उपस्थित थे.

उल्लेखनीय है कि छह मई से ईडी की टीम झारखंड के अलग-अलग जिलों में कार्रवाई कर रही है. ईडी अब तक कुल छह लोगों को गिरफ्तार कर चुकी है. ईडी ने सबसे पहले मनरेगा घोटाले की जांच की और आईएएस पूजा सिंघल के सीए सुमन कुमार को गिरफ्तार किया.

इसके बाद आईएएस पूजा सिंघल को गिरफ्तार किया. इस छापेमारी के दौरान ईडी को कई अहम जानकारियां मिली थीं, जिसके आधार पर अवैध खनन मामले में मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के विधायक प्रतिनिधि पंकज मिश्रा और उसके सहयोगी को गिरफ्तार किया.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *