Rahul Gandhi

राहुल गांधी ने भारत जोड़ो यात्रा में कहा – आदिवासी देश के असली मालिक, वनवासी कहने पर माफी मांगे भाजपा

राष्ट्रीय

राहुल गांधी ने भारत जोड़ो यात्रा के दूसरे दिन गुरुवार को जनजातीय नायक टंट्या मामा की जन्मस्थली बड़ौदा अहीर में एक सभा को संबोधित किया. राहुल ने कहा कि आदिवासी इस देश के असली मालिक हैं. भाजपा ने आदिवासियों को वनवासी कहा, इसके पीछे उनकी दूसरी सोच है. इसके लिए भाजपा आदिवासियों से माफी मांगे. यह शब्द आपको जल, जंगल और जमीन के अधिकार से वंचित करने वाला है.

भाजपा की सरकारें आदिवासियों से उनके अधिकार छीनती हैं

राहुल गांधी ने आरोप लगाया कि भाजपा की सरकारें आदिवासियों से उनके अधिकार छीनती हैं. उन्होंने कहा कि टंट्या मामा और बिरसा मुंडा को अंग्रेजों ने फांसी दी. कांग्रेस उनके विरुद्ध लड़ी. हमारी सरकार आने पर एक-एक करके सभी अधिकार दिए जाएंगे. उन्होंने आरोप लगाया कि आदिवासियों पर सर्वाधिक अत्याचार मध्य प्रदेश में होता है. हमें ऐसा प्रदेश नहीं चाहिए. हमें आदिवासियों को इज्जत और रक्षा देने वाला प्रदेश चाहिए.

प्रियंका गांधी वाड्रा और सचिन पायलट भी यात्रा में शामिल

राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा का मध्य प्रदेश में गुरुवार को दूसरा दिन है. सुबह 6:20 बजे यात्रा खंडवा बोरगांव बुजुर्ग से शुरू हुई. यात्रा में राहुल गांधी के साथ प्रियंका गांधी वाड्रा और सचिन पायलट भी शामिल हैं. प्रियंका के बेटे रेहान और पति राबर्ट भी यात्रा में साथ चल रहे हैं. दुल्हार गुरुद्वारे से यात्रा का दूसरा चरण दोपहर करीब 04 बजे शुरू हुआ. इस दौरान राहुल गांधी और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ टंट्या मामा की जन्मस्थली बड़ौद अहीर पहुंचे और पुष्प अर्पित कर उन्हें नमन किया. इसके बाद राहुल ने सभा को संबोधित किया.

आदिवासी का मतलब जो हिंदुस्तान में सबसे पहले रहते थे

राहुल गांधी ने कहा कि हमारे लिए टंट्या मामा एक चिह्न हैं. एक सोच हैं. एक व्यक्ति जरूर थे. एक विचारधारा भी हैं. उनकी सोच और विचारधारा के कारण मैं आज यहां आया हूं. आदिवासी का मतलब जो हिंदुस्तान में सबसे पहले रहते थे. मतलब- जब इस देश में कोई नहीं था, तब भी आप लोग इस देश में रहते थे. अगर आप आदिवासी हो, अगर आप यहां सबसे पहले रहते थे, तो यह हक बनता है कि आप इस देश के मालिक हैं.

ये जो शब्द होते हैं, बहुत चीजें छुपा और दिखा भी सकते हैं. टंट्या मामा के बारे में सोचते हैं तो सबसे पहले कौन सा शब्द आता है. आदिवासी, संघर्ष, निडरता, क्रांतिकारी ये शब्द आते हैं. जब वो अंग्रेजों के सामने फांसी पर चढ़ रहे थे, तो आपको क्या लगता है, डर था या नहीं. सवाल ही नहीं उठता.

मोदी ने इन्हें वनवासी कहा था, शब्द के पीछे उनकी दूसरी सोच

राहुल गांधी ने कहा कि कुछ दिन पहले प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का भाषण सुना था. उसमें उन्होंने एक नया शब्द इस्तेमाल किया था- वनवासी. इस शब्द के पीछे उनकी दूसरी सोच है. आदिवासी के पीछे सोच है कि इस देश के पहले मालिक आप हो. इसका मतलब-आपकी जमीन, जंगल और जल पर आपका हक होना चाहिए. मगर वहां रुकना नहीं है. आप असली मालिक हो तो आपको और आपके बच्चों को अधिकार मिलना चाहिए. अगर आपका बेटी डॉक्टर-इंजीनियर बनना चाहे तो उसकी पूरी मदद मिलनी चाहिए. क्योंकि आप उसके हकदार हो. सबसे पहले आपका काम होना चाहिए. मलतब जंगल तो आपका है, लेकिन जंगल के बाहर भी अधिकार मिलना चाहिए.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *