Murli Vijay Retirement

Murli Vijay : बल्लेबाज मुरली विजय ने क्रिकेट के सभी प्रारूपों से लिया संन्यास

खेल

Murli Vijay : अनुभवी बल्लेबाज मुरली विजय ने सोमवार को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास की घोषणा कर दी. विजय ने कहा है कि वह दुनिया भर में खेलने के अवसरों की तलाश जारी रखेंगे और साथ ही खेल के व्यावसायिक पक्ष का भी पता लगाएंगे.

मुरली विजय ने  61 टेस्ट, 17 वनडे और 9 टी20 मैच खेले

सलामी बल्लेबाज मुरली विजय ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफी में 2008 में पदार्पण करने के बाद से भारत के लिए 61 टेस्ट, 17 वनडे और 9 टी20 मैच खेले हैं. भारत के लिए उनकी सबसे हालिया उपस्थिति दिसंबर 2018 में पर्थ में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ आई, जिसके बाद उन्हें फिर कभी नहीं चुना गया.

सभी प्रारूपों से संन्यास की घोषणा  

मुरली विजय ने एक बयान में कहा, ”आज, अपार आभार और विनम्रता के साथ, मैं अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट के सभी प्रारूपों से संन्यास लेने की घोषणा करता हूं. 2002 से 2018 तक की मेरी यात्रा मेरे जीवन के सबसे शानदार वर्ष रहे हैं, क्योंकि यह खेल के उच्चतम स्तर पर भारत का प्रतिनिधित्व करने का सम्मान था.” उन्होंने कहा, ”मैं भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड, तमिलनाडु क्रिकेट एसोसिएशन, चेन्नई सुपर किंग्स और केमप्लास्ट सनमार द्वारा मुझे दिए गए अवसरों के लिए आभारी हूं.

क्रिकेट की दुनिया और इसके व्यापारिक पक्ष में नए अवसरों की खोज करूंगा

Murli Vijay : विजय ने कहा कि मैं यह घोषणा करने के लिए उत्साहित हूं कि मैं क्रिकेट की दुनिया और इसके व्यापारिक पक्ष में नए अवसरों की खोज करूंगा, जहां मैं उस खेल में भी भाग लेना जारी रखूंगा जिसे मैं प्यार करता हूं और नए और अलग वातावरण में खुद को चुनौती देता हूं. मुझे विश्वास है कि एक क्रिकेटर के रूप में यह मेरी यात्रा का अगला चरण है और मैं अपने जीवन के इस नए अध्याय की प्रतीक्षा कर रहा हूं.

डेब्यू टेस्ट में प्रभावशाली रहे मुरली विजय

मुरली विजय अपने डेब्यू टेस्ट में प्रभावशाली दिखे थे और फिर श्रीलंका के खिलाफ उन्होंने अपने दूसरे मैच में 87 रन बनाए थे. उन्होंने अक्टूबर 2010 में अपना पहला टेस्ट शतक बनाया था. उन्होंने 2013 में घर पर बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफी में दो शतक लगाए. भारत ने यह श्रृंखला 4-0 से जीती थी.

धीरे-धीरे विदेशों में रन बनाने की रही ख्याति

Murli Vijay : सलामी बल्लेबाज मुरली विजय ने धीरे-धीरे विदेशों में रन बनाने के लिए ख्याति प्राप्त की और इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया में शतक बनाकर अपने कौशल का लोहा मनवाया. वह 2018 में बल्ले से असफल रहे और आठ टेस्ट में सिर्फ एक शतक लगाया. उनका सफेद गेंद का करियर भारत के लिए कभी नहीं चला. विजय आईपीएल में चेन्नई सुपर किंग्स के लिए पर्पल पैच से गुजरे, जहां उन्होंने दो शतक बनाए और 2011 में फाइनल में 95 रन बनाए. किंग्स इलेवन पंजाब के साथ एक संक्षिप्त स्पेल के बाद विजय 2018 में दूसरी बार चेन्नई में लौटे जो सफल साबित नहीं हुए. आईपीएल में उनकी आखिरी उपस्थिति सितंबर 2020 में आई थी.

61 टेस्ट मैचों में 3982 रन बनाए, 12 शतक और 15 अर्धशतक शामिल

विजय ने 61 टेस्ट मैचों की 105 पारियों में 38.29 की औसत से 3982 रन बनाए हैं, जिसमें 12 शतक और 15 अर्धशतक शामिल हैं. इस प्रारूप में उनका सर्वोच्च स्कोर 167 है. वहीं 17 एकदिनी में उन्होंने एक अर्धशतक की बदौलत 339 रन बनाए हैं, जबकि 9 टी20 मैचों में उनके नाम 169 रन दर्ज हैं. आईपीएल में उनके नाम 106 मैच दर्ज हैं, जहां उन्होंने 2 शतक और 13 अर्धशतक की बदौलत 2619 रन बनाए हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *