leshi_singh

मंत्री लेशी सिंह ने नीतीश कुमार को बताया- समर्पित भाव से काम करने वाले देश के एकमात्र राजनेता

बिहार

कार्यकर्ताओं के दरबार में मंत्री कार्यक्रम के बाद आज पत्रकारों से बात करते हुए मंत्री लेशी सिंह ने कहा कि उपभोक्ताओं के हित में कदम उठाने वाले और उनके लिए समर्पित भाव से काम करने वाले देश के एकमात्र राजनेता मुख्यमंत्री नीतीश कुमार हैं. मुख्यमंत्री के रूप में उन्होंने आमजन के हितों की रक्षा के लिए अनगिनत कदम उठाए हैं.

गरीबों को पारदर्शी तरीके से गुणवत्तापूर्ण अनाज पहुंचाने के लिए कृत संकल्पित

उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के दिये गए निर्देश के आलोक में खाद्य एवं उपभोक्ता संरक्षण विभाग खाद्य सुरक्षा अधिनियम के तहत गरीबों को पारदर्शी तरीके से गुणवत्तापूर्ण अनाज पहुंचाने के लिए खाद्य एवं उपभोक्ता संरक्षण विभाग ऑनलाइन इलेक्ट्रानिक तराजू को ई-पॅास मशीन से साथ एकीकरण कर सही माप और उचित मूल्य पर खाद्यान्न देने के लिए कृत संकल्पित है.

गरीबों के लिए मुख्यमंत्री प्रयासरत

इसके लिए राज्य सरकार द्वारा राशि की स्वीकृति भी प्रदान कर दी गयी है. जल्द ही पूरे राज्य में ऑनलाईन इलेक्ट्रानिक तराजू को ई-पॅास मशीन से साथ एकीकरण कर खाद्यान्न का सुचारू रूप से वितरण किया जायेगा. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार हमेशा गरीबों को खाद्यान्न की कोई कठिनाई नहीं हो इसके लिए निरंतर प्रयासरत रहते हैं तथा उनका मार्गदर्शन विभाग को मिलता रहता है.

उचित समर्थन मूल्य पर खरीद की जा रही

एक सवाल के जवाब में मंत्री लेशी सिंह ने कहा कि किसानों को उनके फसलों का उचित समर्थन मूल्य दिलाने के लिए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नेतृत्व में खाद्य एवं उपभोक्ता संरक्षण विभाग कृतसंकल्पित है. किसानों का धान पैक्स एवं व्यापार मंडल के माध्यम से सरकार द्वारा निर्धारित उचित समर्थन मूल्य पर खरीद की जा रही है.

इस वर्ष भी किसानों के हित में धान अधिप्राप्ति का कार्य व्यापक पैमाने पर

विगत वर्ष भी मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नेतृत्व में शत -प्रतिशत रिकार्ड 45 लाख मैट्रिक टन धान की अधिप्राप्ति सुनिश्चित हुई थी. इस वर्ष भी किसानों के हित में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के निर्देश पर धान अधिप्राप्ति का कार्य व्यापक पैमाने पर किया जा रहा है. साथ ही मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के द्वारा हर हाल में गरीबों के हित में उसना चावल ही मिलरों से प्राप्त करने का निर्देश दिया गया है ताकि गरीब उसना चावल का उपयोग कर सकें.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *