Federation Chamber

झारखंड में रेलवे का जोनल मुख्यालय नहीं होना चिंतनीय : फेडरेशन चैंबर

राँची

रांची : झारखण्ड चैंबर ऑफ कॉमर्स के रेलवे उप समिति की बैठक आज चैंबर भवन में संपन्न हुई. इस बात पर चिंता जताई गई कि रेलवे को सर्वाधिक राजस्व देने के बाद भी अब तक रेलवे का जोनल मुख्यालय झारखण्ड में नहीं है जिस कारण रेलवे परियोजनाओं को पूरा करने के लिए हाजीपुर और कोलकाता के क्षेत्रीय कार्यालयों पर निर्भर रहना पडता है. राज्य में रेलवे के विकास के लिए रांची में जीएम का कार्यालय जरूरी है.

बैठक में राजधानी ट्रेनों में खाना की क़्वालिटी में सुधार करने की आवश्यकता बताई गई

बैठक के दौरान राजधानी ट्रेनों में खाना की क़्वालिटी में सुधार करने और बेड रोल की सफाई की आवश्यकता भी बताई गई. सदस्यों ने कुछ नई ट्रेनों की भी आवश्यकता महसूस की जिस अंतर्गत दिल्ली एवं पटना से कोलकाता (वाया गिरिडीह), रांची से वाया हजारीबाग ट्रेनों का परिचालन करने, गरीब नवाज एक्सप्रेस को अजमेर तक विस्तारित कर पुनः शुरू करने, पारसनाथ मधुबन गिरिडीह रेल लाईन का कार्य आरंभ करने की भी मांग की गई.

रांची एवं हटिया-दुर्ग का एतवारी तक एक्सटेंशन किया जाए

रेलवे उप समिति के चेयरमेन विकास विजयवर्गीय एवं संदीप नागपाल ने संयुक्त रूप से कहा कि 650 करोड रू0 की लागत से लोहरदगा टोरी लाइन के बने लगभग 5 वर्ष बीत गये किंतु अब तक सीमित संख्या में ही ट्रेनों का परिचालन किया जा रहा है. यात्रियों की सुविधा के लिए आवश्यक है कि इस लाईन से अधिकाधिक ट्रेनों का परिचालन किया जाय. जरूरी है कि लोहरदगा प्लेटफार्म को विस्तारित किया जाय ताकि राजधानी सहित अन्य ट्रेनों का ठहराव वहां हो सके. यह भी कहा गया कि दक्षिण पूर्व रेलवे द्वारा रेलवे बोर्ड को निर्गत प्रस्ताव शालीमार से देहरादून वाया टाटानगर, रांची एवं हटिया-दुर्ग का एतवारी तक एक्सटेंशन किया जाए .

सदस्यों ने सीनियर सिटीजन रियायती टिकट की सेवा को पुर्नबहाल करने की भी मांग की

सदस्यों ने रांची रेलवे स्टेशन पर गुड्स शेड का निर्माण करने, लोहरदगा, बेडो, कर्रा सहित ऐसे सभी जगहों जहां से सब्जियों का निर्यात अन्य राज्यों में होता है, उन जगहों पर मोबाइल रेफ्रीजरेटेड वैन चालू किया जाय एवं रांची में एक कोल्ड स्टोरेज की स्थापना हो, जिससे वहां की सब्जी, फूल उच्च क्वालिटी के साथ अन्य राज्यों में निर्यात की जा सके तो इससे रेलवे को राजस्व के साथ ही व्यापारियों को भी अधिक फायदा होगा. सदस्यों ने ट्रेनों में प्रीमियम तत्काल के नाम पर लग रहे अधिक किराये पर भी चिंता जताई और रेल मंत्रालय से इसकी समीक्षा का आग्रह किया. सदस्यों ने सीनियर सिटीजन रियायती टिकट की सेवा को पुर्नबहाल करने की भी मांग की.

बैठक में  ये लोग उपस्थित थे

बैठक में चैंबर अध्यक्ष किशोर मंत्री, जेडआरयूसीसी सदस्य आदित्य मल्होत्रा, उपाध्यक्ष अमित शर्मा, सह सचिव रोहित पोद्दार, शैलेष अग्रवाल, रेलवे उप समिति के चेयरमेन विकास विजयवर्गीय, संदीप नागपाल, सदस्य डीआरयूसीसी सदस्य अरूण जोशी एवं भूपेंदर सिंह जग्गी उपस्थित थे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *