Betla National Park

बेतला नेशनल पार्क में हाथी के बच्चे की मौत, ग्रामीणों ने शव दफन करने जा रहे कर्मियों को रोका, लापरवाही का आरोप

लातेहार

बेतला नेशनल पार्क में हाथी के एक बच्चे की मौत हो गई. घटना बुधवार रात की है. लोगों को इसकी जानकारी गुरुवार को मिली. बच्चा बुखार से पीड़ित था. इस वजह से उसकी मौत हुई. स्थानीय ग्रामीणों ने वन विभाग पर लापरवाही बरतने का आरोप लगाते हुए इसका विरोध किया. साथ ही इसकी जांच कर दोषियों पर कार्रवाई की मांग की.

कोयल नदी से हाथी का बच्चा वन विभाग को मिला था

मिली जानकारी के अनुसार गत 10 सितंबर को पलामू टाइगर रिजर्व के मंडल गांव के निकट कोयल नदी से हाथी का यह बच्चा वन विभाग को मिला था. बेतला नेशनल पार्क में रखकर उसकी देखभाल की जा रही थी. वह चोटिल भी था. इस बीच बुखार आ गया और बुधवार देर रात उसकी मौत हो गई.

ग्रामीणों का आरोप – देखभाल सही से होता तो, बच जाता

इसके अगले दिन गुरुवार को वन विभाग के कर्मी हाथी के बच्चे को एक वाहन में रखकर दफनाने के लिए ले जा रहे थे. इसी बीच बड़ी संख्या में ग्रामीण वहां पहुंचे और वन कर्मियों पर लापरवाही बरतने का आरोप लगाते हुए जमकर हंगामा किया. ग्रामीणों का कहना था कि यदि हाथी के बच्चे का सही देखरेख किया जाता तो उसे बचाया जा सकता था.

इलाज में किसी प्रकार की कमी नहीं हुई : रेंजर

बेतला के रेंजर शंकर पासवान ने बताया कि हाथी के बच्चे के इलाज में किसी प्रकार की कमी नहीं की गई है. विभागीय कर्मी उसकी पूरी देखभाल कर रहे थे. साथ ही विभाग लगातार उसके झुंड का पता भी लगा रहा था. इस बीच उसे वायरल फीवर हुआ और इलाज के दौरान उसने दम तोड़ दिया.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *