अग्रसेन भवन में 29 वां आठ दिवसीय एक्यूप्रेशर सह चुंबकीय प्रशिक्षण शिविर का शुभारंभ

राँची

रांची : डॉ लालचंद बगड़िया एक्यूप्रेशर संस्थान रांची के तत्वावधान में 29 वां आठ दिवसीय एक्यूप्रेशर सह चुंबकीय प्रशिक्षण शिविर का उद्घाटन प्रातः 7:00 बजे अग्रसेन भवन के सभागार में अग्रवाल सभा के अध्यक्ष नंद किशोर पाटोदिया, मंत्री मनोज कुमार चौधरी एवं संस्थान के अध्यक्ष रामाशंकर बगड़िया ने संयुक्त रूप से गुरु जी के चित्र पर माल्यार्पण कर एवं दीप प्रज्वलित कर के किया.

लोग एक्यूप्रेशर निरंतर करेंगे तो रोग मुक्त रहेंगे : नंदकिशोर पाटोदिया

इस अवसर पर नंदकिशोर पाटोदिया ने कहा कि एक्युप्रेशर 2 शब्दों से बना है. एक्यू लेटीन वर्ड है, जिसका मतलब निश्चित स्थान एवं प्रेशर इंग्लिश वर्ड है, मतलब दबाब, यानि निश्चित स्थान पर दबाव देने से हमें रोगों में फायदा मिलता है,  हम सभी को अपने नित्यक्रम में हाथ के 4 एक्सरसाइज करने का विधि बताया, जिसे लोग निरंतर करेंगे तो रोग मुक्त रहेंगे.

डॉ लालचंद बगड़िया निःस्वार्थ भाव से सेवा करते थे

स्व. डॉक्टर लालचंद बगड़िया हमारे मार्गदर्शक एवं सभा के पूर्व सचिव थे. वे एक्यूप्रेशर के माध्यम से लोगों का निःस्वार्थ भाव से सेवा करते थे. उनके निधन के पश्चात उनके सुपुत्र रामाशंकर बगड़िया एवं उनके शिष्य इस पद्धति को निरंतर आगे बढ़ा रहे हैं एवं समाज को लाभान्वित कर रहे हैं‌.

श्री मनोज चौधरी ने कहा कि आप नए प्रशिक्षणार्थीयों से निवेदन है कि एक्यूप्रेशर के बारे में तन्मयता से सीखकर अपने परिवार को एक्यूप्रेशर द्वारा स्वस्थ रखे एवं समाज की सेवा करें.

स्व लालचंद बगड़िया ने एक्यूप्रेशर को लोकप्रिय बनाया

उन्होंने कहा कि स्व लालचंद बगड़िया जिन्हें सभी प्रेम से मामा जी के नाम से जानते थे. एक्यूप्रेशर का प्रचार- प्रसार एवं लोकप्रिय बनाया. उनके द्वारा लगभग 10,000 लोगों को इस विधि का ज्ञान कराया था. उनके द्वारा जलायी गयी  एक्यूप्रेशर रूपी मशाल संस्थान एवं शिष्यों द्वारा अनवरत जल रही है.

संस्थान के अध्यक्ष रामाशंकर बगड़िया ने कहा कि एक्यूप्रेशर को वैकल्पिक चिकित्सा प्रणाली बनाने के क्रम में संस्थान द्वारा 29 वां प्रशिक्षण शिविर है, एक्यूप्रेशर रत्न डॉक्टर संतोष झा द्वारा प्रशिक्षण दिया जा रहा है‌. इस शिविर में लगभग 25 प्रशिक्षणार्थी (स्त्री- पुरुष) इस विद्या का ज्ञान अर्जन कर रहे हैं.

28 शिविर में 675 लोगों ने एक्यूप्रेशर की ली जानकारी

अभी तक ऐसे 28 शिविर के माध्यम से लगभग 675 लोगों ने एक्यूप्रेशर की बेसिक जानकारी प्राप्त कर चुके हैं. वर्तमान में संस्थान द्वारा लेक रोड पश्चिम स्थित फुल बाबा आश्रम के प्रांगण में प्रतिदिन प्रातः 8:00 से 10:00 तक निःशुल्क एक्युप्रेशर चिकित्सा केंद्र के माध्यम से विभिन्न प्रकार के लगभग 70 रोगियों का इलाज किया जा रहा है,एवं निःशुल्क होम्योपैथिक चिकित्सा केंद्र द्वारा (सोमवार, बुधवार, शुक्रवार)  लगभग 30 रोगियों का इलाज किया जा रहा है.

संजय सर्राफ ने संस्थान के कार्यों की सराहना की

विशिष्ट अतिथि संजय सर्राफ ने संस्थान द्वारा चलाया जाए कार्यों की सराहना करते हुए कहा कि एक्यूप्रेशर एक वैकल्पिक चिकित्सा प्रणाली के रूप में दिन प्रतिदिन लोकप्रिय हो रहा है. भारत में चिकित्सा पद्धति अत्यंत प्राचीन काल से जन सामान्य को रोग कष्ट दूर करती रही है. यह उपचार पद्धति सरल, खर्च रहित तथा हानि रहित है तथा प्रभावशाली एवं अत्यंत उपयोगी है.

इस मौके पर संस्थान के ओम प्रकाश अग्रवाल, अजीत कुमार, श्याम सुंदर प्रसाद, किशन शर्मा, गिरीश गोकुलका, डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद, डॉ दीपक कुमार, विनोद कुमार मंडल, अजय गाड़ोदिया, संजय सर्राफ, आलोक वर्मा, अजीत कुमार प्रसाद, सरोज सिंह कुशवाहा, आकाश अग्रवाल, रेखा देवी, रेनू डीडवानिया, नीलू जैन, मीरा कुजूर, संतोष खेतान, नीलू साबू आदि उपस्थित थे. यह जानकारी संस्थान के अध्यक्ष रामाशंकर बगड़िया ने दी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *